Charger

Charger

आजकल हम सब टेक्नोलॉजी से इतने ज्यादा घिर चुके हैं, कि हमारे हर छोटे बड़े काम में टेक्नोलॉजी का उपयोग बहुत ज्यादा हो चुका है।

आजकल के बच्चों का पैदा होते ही टेक्नोलॉजी से सामना हो जाता है, जैसे ही बच्चा पैदा होता है| हम सबसे पहले उसकी फोटो अपने स्मार्ट फ़ोन से खींचते हैं...

...यानि पैदा होते ही बच्चे का सबसे पहले सामना मोबाइल फ़ोन से होता है। दो तीन साल के बच्चों को हाथ में हम मोबाइल दे देते हैं, ताकि बच्चा उसमे व्यस्त रहे और हम अपने काम निपटा सकें।

इस टेक्नोलॉजी के जहाँ फायदे हैं वहां इसके नुक्सानों से भी हम सब परिचित हैं। ऐसे ही एक पांच छह साल के बच्चे ने टेलीविज़न पर एक खबर सुनी कि...

...आज एक जगह पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया। उसने अपने पिता से एक सवाल पूछा जिसे सुन कर उस के पिता जी से कोई जवाब देते नहीं बना...

समझ समझ कर देख लिया, समझ ना आये आज। कौन से चार्जर से करते हैं, पुलिस वाले लाठी चार्ज।